राजस्थान: हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट के टेंडर में कर दिया करोड़ों का घोटाला!

27

हाई सिक्युरिटी नंबर प्लेट मामले में गलत तरीके से कंपनी विशेष को फायदे की कोशिश

जयपुर। राजस्थान में वाहनों के लगने वाली नम्बर प्लेट को लेकर बड़े घोटाले की आशंका जताई गई है। दीनदयाल वाहिनी हनुमानगढ़ के जिला अध्यक्ष सितेंद्र विनोचा ने कहा है कि हाई कोर्ट ने पूर्व टेंडर कंपनी रियल मेजोंन की याचिका स्वीकार करते हुए 9 फरवरी 2018 को ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट और सेलेक्स टेक्नोलॉजी को नोटिस जारी किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पिछले 6 महिनों से वाहनों पर हाई सिक्युरिटी नंबर प्लेट नहीं लग पा रही है, जो कि राज्य की सुरक्षा का एक बड़ा मसला बनता जा रहा है।

इस मामले कि पूरी जांच पड़ताल से यह पता चला है कि रियल मेजोंन कंपनी और सेलेक्स टेक्नोलॉजी ने नये टेंडर में पार्टिसिपेट किया। जिसमें ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने रियल मेजोंन कंपनी को टेक्निकल बिड से बाहर कर दिया। इसके खिलाफ हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट से रियल मेजोंन कंपनी को पूर्ण राहत मिली है।

विनोचा ने बताया कि हाई कोर्ट द्वारा रियल मेजोंन कंपनी के पक्ष में फैसला कर, उसकी पालना के लिए ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट को 4 सप्ताह का समय भी दिया गया। जिसके बाद ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट और सेलेक्स टेक्नोलॉजी, दोनों हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट गए, जहां उनकी याचिका खारिज कर हाई कोर्ट के फैसले को पालन करने की हिदायत दी गई।

इसके बावजूद अब फिर से रियल मेजोंन कंपनी को दस्तावेजों में कमी बताते हुए बाहर किये जाने की साजिश की जा रही है। इसके खिलाफ कंपनी वापस हाई कोर्ट गई, जहां कपंनी की याचिका स्वीकार कर ली गई। इस मामले में देखने वाली बात यह भी है कि रियल मेजोंन कंपनी की नए टेंडर में रेट भी प्रतिद्वंदी कंपनी से काफी कम है।

विनोचा ने सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर क्या बात है कि सरकार कम रेट वाली कंपनी के टेंडर को साजिशन रद्द कर एक कंपनी विशेष को ही बार बार फायदा पहुंचाने पर आमादा क्यों है।

खबर को अपने facbook और whatsapp ग्रुप्स में शेयर कीजिये। play store से nationaldunia का मोबाइल एप इंस्टॉल कीजिये और पाइये ताज़ा खबरें। हमारे whatsapp न. 9828999333

Facebook Comments