BJP के पास विपक्ष के 12 विधायक, कांग्रेस ने ढूंढने के लिए लगाया हेलीकॉप्टर

28

बेंगलुरु।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव परिणाम कि दूसरे दिन पूरे देश के राजनीतिक विश्लेषकों, विचारको और जानकारों की नजर कर्नाटक राज्य की राजधानी पर टिक गई है। बहुमत से 8 सीट दूर रही भारतीय जनता पार्टी ने अपने सारे रणनीतिकार लगा दिए हैं।

इस बीच खबर आई है कि कांग्रेस के 12 और जेडीएस के दो विधायक भारतीय जनता पार्टी के खेमे में चले गए हैं। हालांकि, आधिकारिक रूप से कांग्रेस की तरफ से इस मामले में कोई बयान नहीं दिया गया है, लेकिन पार्टी ने अपने विधायकों को ढूंढने के लिए कलबुर्गी में एक हेलीकॉप्टर तैनात कर दिया है।

इससे पहले आज सुबह बीजेपी विधायक दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा ने कल शपथ लेने की बात कहकर कांग्रेसी खेमे में हलचल पैदा कर दी। पूर्व योजना के मुताबिक कर्नाटक में नई सरकार के शपथ ग्रहण का कार्यक्रम 18 मई को था, लेकिन बताया जा रहा है कि जिस तरह से सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं, उसको देखते हुए राज्यपाल ने कल ही नई सरकार के गठन और मुख्यमंत्री को शपथ दिलाने की योजना को फाइनल कर दिया है।

इधर, कांग्रेस के राजनीतिकार राष्ट्रीय संगठन महामंत्री अशोक गहलोत और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद सहित कई कांग्रेसी दिग्गज कर्नाटक में डेरा डाले बैठे हुए हैं। तमाम कांग्रेसी विधायकों को रिजॉर्ट पॉलिटिक्स के तहत एकत्रित किया गया, लेकिन लेकिन 12 विधायकों के विधायक दल की बैठक में नहीं पहुंचने के कारण पार्टी सकते में आ गई है।

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के कर्नाटक पर्यवेक्षक प्रकाश जावड़ेकर और विधायक दल के नेता बीएस येदुरप्पा के साथ मिलकर अपने सभी 104 विधायकों के साथ राज्यपाल के पास दोबारा दावा पेश किया है। बताया जा रहा है कि bjp के इस दावे को राज्यपाल ने स्वीकार कर लिया है और कल नए मुख्यमंत्री के रूप में बीएस येदुरप्पा को शपथ दिलाई जा सकती है।

आपको बता दें कि कर्नाटक चुनाव परिणाम के बाद राज्य में खंडित जनादेश मिला है। यहां पर बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, लेकिन वह 112 सीटों के बजाय पार्टी को केवल 105 सीट हासिल हुई है। जिसके चलते वह बहुमत के लिए जोड़-तोड़ कर रही है। इधर, 78 सीटों के साथ कांग्रेस पार्टी दूसरे नंबर पर रही, 37 सीट जनता दल सेक्युलर को मिली है, 2 सीटों पर निर्दलीय विधायक काबिज हो गए हैं।

इससे पहले कल चुनाव परिणाम घोषित हुए, तब रुझानों में भारतीय जनता पार्टी बहुमत के करीब पहुंचते हुए 122 सीटों तक पहुंच रही थी, लेकिन ज्यों ज्यों परिणाम सामने आए त्यों त्यों पार्टी की सीटें घटती गई और अंततः रात को आखरी सीट पर आए परिणाम के बाद पार्टी 105 सीट हासिल करने में कामयाब रही, जिसके चलते प्रदेश में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला। कांग्रेस पार्टी ने जनता दल सेकुलर को बिना शर्त बाहर से समर्थन देने के साथ ही कुमारास्वामी को मुख्यमंत्री बनाने का प्रस्ताव दे दिया, जिसे स्वीकार करते हुए HD कुमारस्वामी ने राज्यपाल से उनकी पार्टी के द्वारा सरकार के गठन का दावा पेश किया था। देखना अभी बाकी है कि राज्यपाल इस अहम मसले पर क्या फैसला लेते हैं?

Facebook Comments