सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने मीडिया से की वार्ता, कहा: सुप्रीम कोर्ट को नहीं बचाया तो लोकतंत्र खतरें में

15
supreme court judge
www.nationaldunia.com

नई दिल्ल़ी

सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। शायद ही इससे पहले कभी सुप्रीम अदालत के जजों ने कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस की होगी। ये जज हैं जस्टिस चेलामेश्वर, जस्टिस रंजन गोगाई, जस्टिस मदन भीमराव और जस्टिस कुरियन जोसेफ। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस से बातचीत जस्टिस चेलामेश्वर के निवास स्थान पर हुई।

सुप्रीम अदालत में चीफ जस्टिस के बाद नंबर दो की हैसियत रखने वाले जस्टिस चेलामेश्वर ने कहा कि न्यायपालिका के इतिहास में यह घटना ऐतिहासिक है। पहली बार सुप्रीम अदालतों के जजों को सामने आना पड़ा है।

चेलामेश्वर ने बताया कि पिछले दो माह से सुप्रीम अदालत का प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है। चेलामेश्वर ने इस तरह चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के कामकाज पर ही सवाल उठा दिया है। इसके साथ ही चेलामेश्वर ने कहा कि उन्होंने इस बारे में चीफ जस्टिस से वार्ता भी की थी, परन्तु इसका कोई समाधान नहीं किया गया।

उन्होंने कहा कि कल को कोई यह न कह दे कि हमने अपनी आत्मा बेच दी है। जजों ने बताया कि जब तक इस संस्था को बचाया नहीं जा सकता तब तक लोकतंत्र को नहीं बचाया जा सकता है।

चेलामेश्नवर ने कहा कि इस मुद्दे पर उन्होंने चीफ जस्टिस को दो माह पहले जो चिट्ठी लिखी थी वह उसे सार्वजनिक करेंगे। इस चिट्ठी को सामने आने के बाद ही पता चलेगा की चार वरिष्ठ जजों और चीफ जस्टिस के बीच किन मुद्दों को लेकर मतभेद हैं। बता दें कि मीडिया में चीफ जस्टिस और चेलामेश्वर के मतभेद की खबरें आती रही हैं।

प्ले स्टोर से nationaldunia मोबाइल एप इंस्टॉल करें और पाएं तुरंत व ताजा खबरें।
आपको हमारी खबर कैसी लगी? अच्छी लगी तो अपने फेसबुक, व्हाट्सअप, इंस्टाग्राम, लिंकडइन सहित सोशल मीडिया पेज पर शेयर करें और अपने दोस्तों को बताएं। साथ ही हमें nationaldunianews@gmail.com पर सुझाव भी दें। whats app n. 9828999333

Facebook Comments